Friday, 11 November 2011

कैसे कहूँ ?


आदर्श,मर्यादा,समर्पण,ईमानदारी औ
नित नये-नये प्रयोग की ज़मीं पे
मन मेरा है जीता
यही मेरा जीवन है औ
यही है गीता।
इन मूल्यों को अपनाकर
क्या-क्या मैने पाया
पाने के क्रम में
कैसे कहूँ ?
क्या-क्या मैने खोया।
खोने के गहरे ज़ख्मों को
कैसे ? किसको ? दिखलाऊँ
इन रिस्ते ज़ख्मों पर कैसे?
मरहम मैं लगवाऊँ ?
नैनों को हँसते सबने देखा
दिल की पीडा किसने जानी ?
सदियों से चली आ रही
खोने औ पाने की ये करुण कहानी।
छोटी-छोटी इन बातों से
अमावस की काली रातों से
ना घबराना प्यारे तुम
हमेशा याद रखना
दुःख के गहन अंधेरों में
द्विविधा की बोझिल पहरों में
हर इंसान हमेशा अकेला हीं
खडा रहता है
इन बाधाओं को पार कर जो
अपना परचम लहराता है
आनेवाले पल का वही
सिकन्दर कहलाता है
वही सिकन्दर कहलाता है।

41 comments:

  1. जीवन में जो बाधाओं से लड़ता है, सफलता भी उसे ही मिलती है। जो बौरा डूबन डरा रहा किनारे बैठ।

    ReplyDelete
  2. इन मूल्यों को अपनाकर
    क्या-क्या मैने पाया
    पाने के क्रम में
    कैसे कहूँ ?
    क्या-क्या मैने खोया।

    पर बाधाओं से लड़ जो जीता वही सिकंदर है ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. दुःख के अँधेरे में प्रेरणा के बीज छुपे होते हैं!

    ReplyDelete
  4. प्रेरित करती और प्रभावशाली रचना.....

    ReplyDelete
  5. सच है बाधाओं का सामना करके ही सफलता और जीत पाई जा सकती है..... सकारात्मक सन्देश देती रचना

    ReplyDelete
  6. आदर्श,मर्यादा,समर्पण,ईमानदारी औ
    नित नये-नये प्रयोग की ज़मीं पे
    मन मेरा है जीता
    यही मेरा जीवन है औ
    यही है गीता।
    इन मूल्यों को अपनाकर
    क्या-क्या मैने पाया
    पाने के क्रम में
    कैसे कहूँ ?
    क्या-क्या मैने खोया।
    खोने के गहरे ज़ख्मों को
    कैसे ? किसको ? दिखलाऊँ....bahut kuch kahte shabd

    ReplyDelete
  7. jo jita hai wahi sikandar hai...

    behtreen rschna..
    padhane ke liye dhanywaad.
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  8. आदर्श,मर्यादा,समर्पण,ईमानदारी औ
    नित नये-नये प्रयोग की ज़मीं पे
    मन मेरा है जीता
    यही मेरा जीवन है औ
    यही है गीता।

    ....बहुत सच कहा है...इन आदर्शों का पालन करने वाले को सिकंदर बनने से कौन रोक सकता है...मन को छूते गहरे अहसास..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  9. sach kaha
    aaj bhi jo jeeta wahi sikander.....

    ReplyDelete
  10. सच कहा है आपने ... जो बाधाओं को पार पाता है सिकंदर तो वही होता है ... लाजवाब लिखा है ...

    ReplyDelete
  11. हमेशा याद रखना
    दुःख के गहन अंधेरों में
    द्विविधा की बोझिल पहरों में
    हर इंसान हमेशा अकेला हीं
    खडा रहता है
    इन बाधाओं को पार कर जो
    अपना परचम लहराता है
    आनेवाले पल का वही
    सिकन्दर कहलाता है

    prerak prastuti.

    ReplyDelete
  12. इन मूल्यों को अपनाकर
    क्या-क्या मैने पाया
    पाने के क्रम में
    कैसे कहूँ ?
    क्या-क्या मैने खोया।

    इन बाधाओं को पार कर जो
    अपना परचम लहराता है
    आनेवाले पल का वही
    सिकन्दर कहलाता है

    very meaningful lines.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर निशा जी....बेहतरीन पेशकश.

    ReplyDelete
  14. छोटी-छोटी इन बातों से
    अमावस की काली रातों से
    ना घबराना प्यारे तुम
    हमेशा याद रखना
    दुःख के गहन अंधेरों में
    द्विविधा की बोझिल पहरों में
    हर इंसान हमेशा अकेला हीं
    खडा रहता है
    इन बाधाओं को पार कर जो
    अपना परचम लहराता है
    आनेवाले पल का वही
    सिकन्दर कहलाता है
    वही सिकन्दर कहलाता है।

    बहुत सुन्दर और प्रेरक रचना. बांटने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और प्रेरक रचना....

    ReplyDelete
  16. बहुत ही उम्दा कविता निशा जी नमस्ते

    ReplyDelete
  17. आपका पोस्ट अच्छा लगा । .मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  18. बात तो सच्ची है !

    ReplyDelete
  19. जीवन का कटु सत्य बखूबी व्यक्त किया है

    ReplyDelete
  20. सकारात्मक भावों को बहुत अच्छे से लिखा है आपने,बधाई !

    अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।

    औचित्यहीन होती मीडिया और दिशाहीन होती पत्रकारिता

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छा लिखा आपने !
    इसके लिए आपको बहुत बहुत बधाई !
    अब आपके ब्लॉग पर आना होता रहगा
    मेरे ब्लॉग पर आये
    manojbijnori12 .blogspot .com

    ReplyDelete
  22. "पाने के क्रम में
    कैसे कहूँ ?
    क्या-क्या मैने खोया।
    खोने के गहरे ज़ख्मों को
    कैसे ? किसको ? दिखलाऊँ
    इन रिस्ते ज़ख्मों पर कैसे?
    मरहम मैं लगवाऊँ ?"

    संवेदना से सराबोर अभिव्यक्ति !बस अपनी ही सी लगती कहानी ! बधाई इस सुंदर प्रस्तुति के लिये ।

    ReplyDelete
  23. इन बाधाओं को पार कर जो
    अपना परचम लहराता है
    आनेवाले पल का वही
    सिकन्दर कहलाता है

    sach kaha aapne aur khoobsurat tareeke se

    ReplyDelete
  24. जीवन से न हार जीने वाले ... प्रेरक कविता।

    ReplyDelete
  25. अति सुन्दर अभिव्यक्ति, मानव मन
    के धरातल पर लिखी हुई कविता.
    अच्छा एवं सफल प्रयास.
    धन्यवाद.
    आनन्द विश्वास.

    ReplyDelete
  26. ब्लॉग का नाम हिंदी में अनुदित कर दिया जाय तो अच्छा नहीं रहेगा..?

    ReplyDelete
  27. akele hi aage badhna hai ...himmat se...

    ReplyDelete
  28. दुःख के गहन अंधेरों में
    द्विविधा की बोझिल पहरों में
    हर इंसान हमेशा अकेला हीं
    खडा रहता है

    जीवन के एक बड़े यथार्थ को आपने बहुत सुंदर तरीके से शब्दबद्ध किया है।

    ReplyDelete
  29. नमस्कार
    सम्मानित मित्र

    आज आपके ब्लॉग पर गया हूँ! आपकी रचनायें पढने का सौभाग्य प्राप्त हुआ, इसके लिए आपको ह्रदय से धन्यवाद!

    ReplyDelete
  30. अच्छी पोस्ट आभार ! मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद।

    ReplyDelete
  31. बेहद ख़ूबसूरत और शानदार रचना लिखा है आपने! दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  32. Kitti sundar bat likhi apne..badhai.

    ReplyDelete
  33. इन बाधाओं को पार कर जो
    अपना परचम लहराता है
    आनेवाले पल का वही
    सिकन्दर कहलाता है
    वही सिकन्दर कहलाता है।

    वाह! बहुत सुन्दर प्रेरणादायक प्रस्तुति है आपकी.
    सिकंदर भी क्या खूब नाम है.

    ReplyDelete
  34. अमावस की काली रातों से
    ना घबराना प्यारे तुम
    हमेशा याद रखना
    दुःख के गहन अंधेरों में
    द्विविधा की बोझिल पहरों में
    हर इंसान हमेशा अकेला हीं
    खडा रहता है
    सुन्दर भाव रचना मन भाई इससे पहली रचना भी मन को बंधती है दोनों रचनाएं अति सुन्दर .

    ReplyDelete