Sunday, 11 March 2012

पुनः


भूल कर सारे गिले शिकवे
तेरी गलती मेरी गलती
वादा का नया रस्म निभाना है
पुराने संबंधों को खत्म करें
अब संबंध नया बनाना है।
एक मोड पर क्यों खडे रहें
हरेक मोड से गुजर कर जाना है
किसी मोड पर मिले कभी थे
किसी मोड पर बिछड जाना हे
चेहरे पर दर्द को पढा नही
पढनेवाला अंधा था
सुनानेवाले का सुना नही
सुननेवाला बहरा था
अपनी-अपनी सबको पडी है
भौतिकता का ये गोरखधंधा है
संकीर्ण सीमाओं की मानसिकता से
हरेक प्राणी बँधा है
कितना भी शिकवा करं
ये दर्द न होगा कम
अनचाहे संबंधों को ढोने से
अच्छा है कि पुनः
अजनबी बन जायें हम।

22 comments:

  1. ये दर्द न होगा कम
    अनचाहे संबंधों को ढोने से
    अच्छा है कि पुनः
    अजनबी बन जायें हम।
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति,भावपूर्ण सुंदर रचना,...

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: बसंती रंग छा गया,...

    ReplyDelete
  2. आगे बढ़ाने के लिए काफी कुछ पिछला छोडना पड़ता है .... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. क्या बात है!! चलो इक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों!!

    ReplyDelete
  4. ताल्लुक बोझ बन जाये तो उनको तोडना अच्छा........
    बहुत बढ़िया रचना निशा जी..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर कविता निशा जी |

    ReplyDelete
  6. निशा जी
    नमस्कार !
    अनचाहे संबंधों को ढोने से
    अच्छा है कि पुनः
    अजनबी बन जायें हम।
    ...........बहुत खूब
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    ReplyDelete
  7. अनचाहे संबंधों को ढोने से
    अच्छा है कि पुनः
    अजनबी बन जायें हम।
    karein koshish dooriyaan mitaane kaa

    ReplyDelete
  8. वाह ... बेहतरीन ...
    वो अफसाना जिसे अंजाम पे लाना न हो मुमकिन ... उसे इक खूब्सूत्रत मोड दे के छोड़ना अच्छा ...

    ReplyDelete
  9. रचना जीवन की अभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भावोक्ति!

    ReplyDelete
  11. आये हैं सो जायेंगे राजा रंक फ़कीर, एक सिंहासन चढि चलै एक बन्धे जंजीर ... बन्धन टूटना ही बेहतर है!

    ReplyDelete
  12. बहुत ही उम्दा रचना !

    ReplyDelete
  13. अनचाहे संबंधों को ढोने से
    अच्छा है कि पुनः
    अजनबी बन जायें हम।...बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  14. अन -चाहे संबंधों को ढ़ोना जीवन से असम्पृक्त ही होना है .पानी में मीन प्यासी रे ....

    ReplyDelete
  15. वाकई .......
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब लिखा है इस रचना के लिए आभार

    ReplyDelete
  17. दो इंसान फिर से अजनबी बन कर नए संबंधों को शुरू करते आए हैं. सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  18. सुन्दर भावमय प्रस्तुति.
    पुराने एक गाने की याद दिलाती हुई.

    'चलो... एक बार फिर से अजनबी बन जाएँ हम दोनों...'

    ReplyDelete