Sunday, 3 July 2016

तेरी पहचान

व्यर्थ समय गँवाया मैंने
जी को किया यूँ हीं हलकान
देख के तेरी मित्र-मण्डली
हो गई मुझको तेरी पहचान ----


Sunday, 25 October 2015

तुझे मालूम नहीं --मगर ---

अस्त-वयस्त गेह( जिंदगी )
सजा-संवरा देह
दिल में भावनाओं का ज्वार नहीं
न - हीं दिमाग में रवानी है
तुझे मालूम नहीं --मगर ---
ऐ --कठपुतली यही तुम्हारी निशानी है।
    समर्पित है उन सभी औरतों को जो भौतिकता की अंधी दौड़ में शामिल हो अपने स्त्रीत्व और ममत्व को भूल चुकी है और दौलत की चमक में अंधी हो दूसरों के इशारों पर नाचने के सिवा कुछ नहीं कर सकती।
जब दिल  की अभिवयक्ति को कागज पर उतार देती हूँ तो ऐसा लगता है की जी लेती हूँ। 

Sunday, 13 September 2015

दम हो गर संबंधों में तो ---

दिल लगाने से दिल लगता है 
मन बहलाने से मन बहलता है 
दम हो गर बटुए में तो ----
मनचाहा सामान मिलता है पर 
दम हो गर संबंधों में तो -----
सपनों का जहां मिलता है 

Thursday, 10 September 2015

मैंने मौत को देखा है

 ब्लोगर्स साथियों,,,,, आज मैं २ -०९ -२०१५  टाटा मेमोरियल --जहाँ की मैं साल में एक बार चेकउप करवाने जाती हूँ का अनुभव  बाँटना चाहती हूँ। सामान्यतः सीनियर डॉ  ही चेकउप करते हैं पर इस बार पता नहीं क्यों जूनियर डॉ ही सभी को देख रहे थे। मेरा चेकउप करते ही वो घबरा से गए और बोले --ये root nodule कब से हो गया आपको ? जहाँ तक मेरा सवाल है मै  हमेशा खुद ही चेक करती हूँ , मुझे कभी मेरे breast में असामन्यता महसूस नहीं हुआ था पर मुझे भी घबराहट हो गई। हालाँकि 
डॉ साहब ने मुझे सामान्य करने की कोशिश की और मैमोग्राफी के लिए भेजा ये कहते हुए की आप बिलकुल ठीक हैं पर साल भर से ज्यादा हो गया अतः मैमोग्राफी करा लीजिये। मैमोग्राफी हो गया पर शायद डॉ साहब को पूर्णतः विश्वास नहीं था उन्होंने कंप्यूटर में मुझे रिपोर्ट भी दिखाया और कहा देखिये ये cyst ----पर चूँकि मैंने कैंसर वाला cyst bhi dekh rakha tha दोनों में अंतर था और इतना मुझे  समझ में आ गया था की ये कैंसर वाली cyst तो नहीं है --  हाँ  ना के बीच झूलते झूलते आख़िरकार शाम चार बजे के करीब मुझे बताया गया की --you are ok .पर करीब चार घंटे मेरे सिर पर तलवार तंगी रही। ऐसा मेरे साथ पहली बार हुआ। अधिकांशतः सीनियर डॉ--ही रहते हैं पर इस बार पता नहीं क्यों व्यवस्था कुछ गड़बड़ सी लगी।  पर इन चार घंटों में एक बार फिर से जीवन की नश्वरता का एहसास गहराई से महसूस किया।  दो चार औरतों से भी मिली, उनके रिपोर्ट भी देखे जो स्थिति की गंभीरता से बेखबर अपनी बारी का इन्तजार कर रही थी। सच -- कभी कभी अज्ञानता  वरदान बनकर हमें तनावरहित कर देती है। बीमारी की गंभीरता को देखते हुए हमेशा सीनियर डॉ की मौजूदगी अनिवार्य कर देना चाहिए --ऐसा मुझे लगा।  आइये एक बार फिर मेरी उन भावनाओं से मैं आपको मिलाऊँ।  मेरी बहुत पुरानी रचना है। 






ब्लोगर्स साथियों  आप सबको नव वर्ष की बहुत-बहुत शुभकामना....
आइये आज मै आप सबको अपने जीवन का वो अनुभव बताउं जिसे पूरा हुए सात साल हो गये |
२९ दिसंबर २००४ को मेरे ब्रेस्ट केंसर का आपरेशन हुआ था ........उस अनुभव को आप सबसे शेयर
करने का आज मौका मिला है | वैसे भगवान की कृपा से मै  स्वस्थ्य हूँ और आगे भी भगवान की ही
मर्जी |

 


आज भी मेरे मन मस्तिष्क पर
आश्चर्य एवम भय मिश्रित रेखा है 
जबसे मैंने अपने आसपास 
मंडराते मौत को देखा है !

मरने से नही डरती हूँ 
खुद के गम को हरती हूँ 
लम्बी आहें भरती हूँ
झरनों जैसी झरती हूँ 
पल पल खुद से लडती हूँ
खुद को देती रहरहकर
विश्वास भरा दिलासा
नही है मकडजाल मेरा
न ही है कोई धोखा
जीना कुछ कुछ सीख गई हूँ
जबसे मौत को देखा है |

मौत को सामने देख कर मै ...........
ठिठक गई थी..... मेरी सांसे ........
मेरी जिन्दगी...... थम सी गई थी 
मुझे यूँ घबराया देख 
वो मेरे सामने आई ........
मेरे सहमे हुए दिल को
प्यार से सहलाया औ ...समझाया ...
जीवन औ मौत तो
जन्म -जन्मों के मीत हैं 
समझ लूँगी इन बातों को
सचमुच जिस दिन 
उस दिन होगी मेरी जीत
जन्म औ मृत्यु है ऐसे
जैसे पी संग प्रीत |

मैंने मौत की आँखों में झांकते हुए कहा .......
महानुभाव! मै आपको अच्छी तरह जानती हूँ
आपके आने के कारणों को
अच्छी तरह पहचानती हूँ
आपकी वजह से मैंने बड़े से बड़ा .....
दुःख सहा है पर ........
याद करें क्या  मैंने  ?
कभी आपको उलाहना दिया है ?
अपनों के मौत की पीड़ा
क्या होती है ......
मौत होने के कारण
क्या आपने इसे कभी सहा है ?
मै मौत से नही डरती
आपको देखकर लम्बी आहें 
नही भरती ......
डरती हूँ तो सिर्फ औ सिर्फ .....
अपनों से बिछुड़ने  की पीड़ा से
ये सोचकर की मेरे बाद
मेरे बच्चो का क्या होगा ?
जो सपने मैंने उनके लिए बुने हैं
उन सपनों का क्या होगा ?
मौत बड़े प्यार से मेरे पास आई
आँसू भरे दो नैनों को
आँसुओ से मुक्त कराया औ कहा...........
मै भी इतनी निर्दय नही हूँ ....
दुःख तो मुझे भी होता है
जब साथ किसी अपनों का छूटता है
पर !मै अपने दिल का दर्द
किसे बताउं ........
अपनी जिम्मेदारियों से कैसे
भाग जाऊ?
मै जानती हूँ
माया मोह के  बंधन को तोड़ने में
वक्त तो लगता है .....
अधूरे सपनों को मंझधार में छोड़ने में
दर्द तो होता है |

मैने मौत से आग्रह किया ........
गर आप मेरे दुःख से दुखी हैं
तो  .......मेरे ऊपर एक  एहसान  कीजिये
ज्यादा नही पर इतना वक्त दीजिये
जिससे मै अपने अधूरे काम निबटा सकूँ
उसके बाद आप जब भी आयें मै .....
ख़ुशी-ख़ुशी आपके साथ जा सकूँ
पलक भर के लिए उसने मुझे देखा
फिर मन ही मन कुछ बोली औ कहा .......
जिजीविषा  औ विजिगीषा की पहचान हो तुम निशा ......
आशा औ विश्वास की खान हो तुम निशा
मै तुम्हारी नही तुम्हारे विश्वास की कद्र करती हूँ
अपने आधे अधूरे कार्य को पूरा कर सको
मै तुम्हे इतना वक्त देती हूँ ......
मौत से मिले इस उधार  वक्त की
कीमत मै जान गई हूँ 
जीना किसको कहते हैं
इसको कुछ -कुछ जान गई हूँ |

Monday, 13 July 2015

हो सके तो

ज़िंदगी को हक़ीक़त से 
नज़रों को नज़ारों से
 किसी की यादों को खुद से 
              अलग कर सको तो ----कर लेना 
लालच की बंज़र जमीं पे 
कुत्सित इरादों की आड़ में 
बीज खुशियों के    
                                   बो सको  तो----- बो लेना 
झूठ के दलदल पर खड़ी 
अहंकार की दीवार   को 
सच्चाई के साबुन से 
                                   धो सको  तो  ---- धो लेना 
निश्छल निर्मल हँसी के लिए 
झूठे दम्भ को दरकिनार कर 
खुद की गलतियों पर पश्चाताप कर 
                                 हो सके तो ----रो लेना  

Friday, 19 June 2015

खामोश नजर




जीवन के इक मोड पर
अच्छा हुआ तुम मिल गये
कुछ कह लिया
कुछ सुन लिया
बोझ हल्का कर लिया
यूँ ही साथ चलते चलते
कुछ रास्ता भी कट गया
पहचान क्या है मेरी
पहचान क्या है तेरी
तुम खुद ही गढो
जानना ही चाहते हो
तो मेरी आँखों में  पढो। 
जा  के मिलूँ समन्दर में पर
मैं  इक कालिन्दी हूँ
और  मर्यादा के सीमाओं में बँधी हूँ
भावनाओं को व्यक्त करना ही
प्यार नही होता
कुछ पाने के लिये कुछ देना भी
प्यार नही होता
प्यार भरे दिलों में
मिलने की बेकरारी होती है
एक खामोश नजर
प्यार के अनगिनत शब्दों पर
भारी होता है
प्यार कैसा है तेरा
प्यार कैसा है मेरा
बिना समझे ही बढो
सामझना ही चाहते हो तो
मेरी आँखों में पढो।

 तेरी यादों की परछाई में
दिन रात भटकती रहती हूँ
सोते जगते उठते बैठते
बस यही दुआ किया करती हूँ
मिले तुम्हे सफलता हर पल
खुशियाँ कदमपोशी करे
जगह जगह खिल जाये कलियाँ
जहाँ जहाँ तेरे कदम पडे
प्यार कैसा है तेरा
प्यार कैसा है मेरा
बिना परखे ही बढो
परखना ही चाहते हो तो
मेरी आँखों में पढो।      
                             ये भी बहुत पुरानी रचना है।  

Monday, 15 June 2015

मौन


आसमान में छिडी लडाई
चंदा और तारों में
तारे बोले-सुन चंदा तुम
व्यर्थ क्यों इतराते हो ?
रोज-रोज तुम रुप बदलते
कुछ दिन तुम छिप जाते हो
छिपना मेरी हार नही है
छिपना मेरी जीत है
सब दिन होत न एक समान
ये जीवन की रीत है
 गर तुम पालन करते इसका
कभी नही झल्लाते
व्यर्थ नही अभिमानी बनते
यूँ ही टूट न जाते
क्रोध वैर से नाता जोडूँ
मुझको नही मंजूर है
शीतलता प्रदान करुँ
खुशी मुझमें भरपूर है
चंदा की चांदनी को
ताना मारे कौन
जबाव नही सूझा तारों को
साध लिया सबने ही मौन।
  मेरी बहुत पुरानी रचना,,,,, नई दुनिया में प्रकाशित हुई थी।  शायद आपको भी अच्छी लगे।