Saturday, 24 March 2012

बहाना


 जाने कैसे ?
दिल की बातें
दिल में रह गई
कहना जिसे चाहा नहीं
जुबाँ से फिसल गई .........


रंजो  -गम को
मुस्कान के पीछे छुपाया था
वियोग के उजड़े चमन को
काँटों से सजाया था .......



मालूम था इक दिन
बहार संग
कलियों को आना है !१११
पतझड़ तो केवल
वसंत के आने का बहाना था ...........



19 comments:

  1. मालूम था इक दिन
    बहार संग
    कलियों को आना है !
    पतझड़ तो केवल
    वसंत के आने का बहाना था ...........

    प्रतीकों ने कविता के भावों को बोधगम्य बना दिया !

    ReplyDelete
  2. सुन्दर!!!

    आशाओं का दामन छूटे ना....

    ReplyDelete
  3. मालूम था इक दिन
    बहार संग
    कलियों को आना है !१११
    पतझड़ तो केवल
    वसंत के आने का बहाना था ........aashawadi rachna, bahut badhiya

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती आप के ब्लॉग पे आने के बाद असा लग रहा है की मैं पहले क्यूँ नहीं आया पर अब मैं नियमित आता रहूँगा
    बहुत बहुत धन्यवाद् की आप मेरे ब्लॉग पे पधारे और अपने विचारो से अवगत करवाया बस इसी तरह आते रहिये इस से मुझे उर्जा मिलती रहती है और अपनी कुछ गलतियों का बी पता चलता रहता है
    दिनेश पारीक
    मेरी नई रचना

    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद:
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

    ReplyDelete
  5. जाने कैसे ?

    दिल की बातें
    दिल में रह गई
    कहना जिसे चाहा नहीं
    जुबाँ से फिसल गई .........

    ..बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  6. मालूम था इक दिन
    बहार संग
    कलियों को आना है !१११
    पतझड़ तो केवल
    वसंत के आने का बहाना था ...........
    वाह आशावाद को दर्शाती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ... सच है एक सा कभी भी नहीं रहता ... पतझड़ के बाद बसंत आती है ... ये चक्र घूमता रहता है ...

    ReplyDelete
  8. दिन तो फिरते ही हैं, बस पतझड़ के मौसम को संभलकर झेल जाने की बात है।

    ReplyDelete
  9. दूसरा पैरा पहले और तीसरे को कन्फ्यूज करता लगता है।

    ReplyDelete
  10. मालूम था इक दिन
    बहार संग
    कलियों को आना है !१११
    पतझड़ तो केवल
    वसंत के आने का बहाना था ...........

    यही उम्मीद तो जीए जाने की ताक़त देती है .....सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर संदेश देती सकारात्मक रचना.....

    ReplyDelete
  12. चलिए कुछ दिनों का पतझड़ एक सुंदर सी कविता तो दे गया .....:))

    ReplyDelete
  13. सकारात्मक सोच लिये सुंदर रचना...

    ReplyDelete