Thursday, 22 March 2012

भूली -बिसरी बातें

वक्त की कडाही में
 मैंने  पकाई
स्नेह ,अपनापन औ समर्पण
भरी मिठास से
रिश्तों की रसमलाई
तुम नही आई पर .......
याद तुम्हारी बार-बार आई


भूलने की तुम्हे मैंने
कोशिश की कई बार
भूल नहीं पाई मै तुमको
दिल के आगे गई मैं हार
याद न आओ मुझे
ये सोचकर मैंने
कर लिया  खुद को
तुझ में एकाकार
अब मैं हूँ और है मेरा
एकलौता संसार ..........

28 comments:

  1. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
    इंडिया दर्पण की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....
    इंडिया दर्पण की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर शब्दों की माला....

    ReplyDelete
  4. पाका बढ़िया स्वादमय, अपनापन सस्नेह ।
    किया समर्पित हे प्रभू, भाव सहित मन देह ।


    भाव सहित मन देह, चढ़ाई पुष्प मिठाई ।
    रसमलाई सारस, चखो रविकर कन्हाई ।

    चखती रहा विछोह, राह रह रह कर ताका ।
    छोड़ न पाई मोह, लगे है तन मन पाका ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. चखती रही विछोह, राह बेबस मन ताका ।
      छोड़ न पाई मोह, लगे है तन मन पाका ।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर भाव.....

    मीठी यादों को सहारा बनाइये....
    मुस्कुराते हुए याद कीजिये....आसान होगा जीवन.

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  6. आपको नव संवत्सर 2069 की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ----------------------------
    कल 24/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. आप सभी को तहेदिल से धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. बस एकाकार रहिए ...सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. नव संवत्सर की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।
    मैं ब्लॉग जगत में नया हूँ मेरा मार्ग दर्शन करे
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर है यह संसार...
    नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर ....नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!
    आपको नव सम्वत्सर-2069 की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर ..... स्मृतियाँ कहाँ छूटती हैं....

    ReplyDelete
  14. bahut meeths sunder ahsaas

    ReplyDelete
  15. Sundar rachna, Mahadevi Verma ji ki yaad aa gayi...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर रचना, महादेवी वर्मा जी की याद आ गयी...

    ReplyDelete
  17. नव संवत्सर का आरंभन सुख शांति समृद्धि का वाहक बने हार्दिक अभिनन्दन नव वर्ष की मंगल शुभकामनायें/ सुन्दर प्रेरक भाव में रचना बधाईयाँ जी /

    ReplyDelete
  18. प्रेम गली अति संकरो....

    सुन्दर कविता...
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाए।

    ReplyDelete
  20. एक यादें ही तो हैं ...जो सगी होती हैं ....बहुत खूब !

    ReplyDelete
  21. वाह ...बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  22. बढ़िया लिखा है |हार्दिक बधाई |
    आशा

    ReplyDelete