Sunday, 25 October 2015

तुझे मालूम नहीं --मगर ---

अस्त-वयस्त गेह( जिंदगी )
सजा-संवरा देह
दिल में भावनाओं का ज्वार नहीं
न - हीं दिमाग में रवानी है
तुझे मालूम नहीं --मगर ---
ऐ --कठपुतली यही तुम्हारी निशानी है।
    समर्पित है उन सभी औरतों को जो भौतिकता की अंधी दौड़ में शामिल हो अपने स्त्रीत्व और ममत्व को भूल चुकी है और दौलत की चमक में अंधी हो दूसरों के इशारों पर नाचने के सिवा कुछ नहीं कर सकती।
जब दिल  की अभिवयक्ति को कागज पर उतार देती हूँ तो ऐसा लगता है की जी लेती हूँ। 

11 comments:

  1. Kya simile hai...bahut achche!

    ReplyDelete
  2. जय मां हाटेशवरी....
    आप ने लिखा...
    कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
    हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
    दिनांक 26/10/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर... लिंक की जा रही है...
    इस चर्चा में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
    टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    कुलदीप ठाकुर...


    ReplyDelete
  3. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    self publishing india

    ReplyDelete
  4. सार्थक और प्रेरक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. सही कहा आपने भौतिकता की अंधी दौड़ कठपुतली बना रहा है कई औरतों को....

    ReplyDelete
  7. very nicely written .... http://panchopoetry.blogspot.in/2016/04/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत ही खूब लिखाहै आपने, सत्य को उजागर करने का सार्थक प्रयास है।

    ReplyDelete