Thursday, 23 October 2014

सुन बाती का संकल्प

कहा बाती ने दीये से 
साथी! मत हो तुम उदास 
जब तक जान रहेगी मुझमें 
रहूँगी तेरे साथ........

सुन बाती का संकल्प 
तम मुस्कुराया 
पलक झपकते उजियारे ने 
अपना पर फैलाया,,,,,
                               दिवाली के दीये की भाँति आप भी हमेशा खुशियों 
का उजाला फैलायें ताकि तम - रुपी दुःख-दर्द आप से दूर रहे।  दीप -पर्व  के इस अवसर पर आपको बहुत -बहुत  शुभकामनाएँ। 

11 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (24.10.2014) को "शुभ दीपावली" (चर्चा अंक-1776)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है। दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद राजेंद्र जी ....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर।
    प्रकाशोत्सव के महा पर्व दीपावली की शृंखला में
    पंच पर्वों की आपको शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  4. प्यारी कविता , हैप्पी दिवाली

    ReplyDelete
  5. सुंदर ।
    आपको भी सपरिवार दीपोत्सव शुभ हो मंगलमय हो ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर .दीपक संकल्प सिखाता है प्रेरित करता है

    ReplyDelete
  7. बहुत ही खुबसूरत अभिव्यक्ति
    आपको भी सपरिवार दीपोत्सव शुभ हो मंगलमय हो ..

    ReplyDelete
  8. Sunder bhaaw rachna ke...umda prastuti..diwali ki shubhkamna aapko !!

    ReplyDelete
  9. कम शब्दों में बड़ी सुन्दर बात ...

    ReplyDelete
  10. कुछ शब्दों में गहरी बात ...
    दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  11. Respected Madam

    Happy Diwali wishes to you and your family members.

    Madam please look into my Diwali message Lamps of India which i posted in my Heritage of India and share your valuable comments in english.

    http://indian-heritage-and-culture.blogspot.in/2013/09/lamps-of-india.html

    ReplyDelete