Monday, 13 October 2014

तब.… बता ओ

दौलत की खनक 
चेहरे की चमक 
शरीर का ताव 
दिल बेताब 
जब हो जाएगा 
निढ़ाल,,,,,,
 तब.……  बता ओ,,,,,,
स्वछन्द परिंदे 
कैसे,,,,, गीत ख़ुशी के गाओगे ?
अभिमान  के बुनियाद पे हो खड़े तुम 


चैन कहाँ से पाओगे ? 
अपने आसपास की झूठी महफिल को 
कैसे तुम सजाओगे ?
छिनोगे तो छिन  जायेगा 
छोटी सी इक गलती तुझको 
उम्र भर तड़पाएगी .... 
सत्य को अपनाओगे तो 
खुद को तुम पाओगे 
चैन तुम्हें चहुँ ओर मिलेगा 
जहाँ-जहाँ तुम जाओगे 
झूठा अहम् और मिथ्याभिमान 
के कवच को तोड़ तुम भागो 
समय के रहते समय को पकड़ो 
ओ नादान  परिंदो जागो ,,,,

18 comments:

  1. सच्ची बात .... खुबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना बुधवार 15 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रविकर जी ...

      Delete
  4. सच कहा है ... समय रहते ही समझ आना जरूरी है ...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर सन्देश देती अति सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  6. समय रहते चेत जाए तो पछतावा ही काहे का!

    ReplyDelete
  7. गहरा सन्देश छुपाये रचना ...

    ReplyDelete
  8. सार्थक संदेशयुक्त रचना।

    दीपावली की अशेष शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. सुंदर संदेश

    ReplyDelete