Monday, 28 July 2014

मैं जननी

शिमला तेरी वादियों में 
मन को मोड़ आई हूँ 
अपने ज़िगर के टुकड़े को 
तेरे सानिध्य में छोड़ आई हूँ.…

उचित-अनुचित ,अच्छे-बुरे का 

देना अब तुम ज्ञान 
मैं जननी तूँ जगदम्बा 
रखना उसका ध्यान........

28 comments:

  1. Panchi ko udane ke liye ghonsala chhodana hi padata hai maidam!
    Aap houasala rakho...

    ReplyDelete
  2. मेरा बेटा भी इन्हीं वादियों में अपनी इंजीनियर की पढाई पूरी की
    हार्दिक शुभकामनायें आपके बेटे के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyavad vibha jee .....plain me rahne ki aadat hai aur shimla hilly area hai thoda door bhi hai ..isliye thodi si ghabrahat ho rahi thi .....mujhe ...

      Delete
  3. जगदंबा ज़रूर ध्यान रखेंगी ।

    ReplyDelete
  4. माँ की गोद से निकलकर अपने पैरों पर खड़ा होने की ओर पहला कदम...!! आशीष!!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना सीधे दिल से निकली अनुभूतियाँ. बधाई.

    ReplyDelete
  6. बच्चे को शुभकामनायें और आशीर्वाद...

    ReplyDelete
  7. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।
    साया बापू का उठा, *रूप-चन्द ग़मगीन :चर्चा मंच 1690

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  9. वटवृक्ष से दूर ही बृक्ष खुला आसमान में सर उठा सकता है , माँ वटवृक्ष है.....उसे तो आसमान छूना है .......शुभकामनायें |
    अच्छे दिन आयेंगे !
    सावन जगाये अगन !

    ReplyDelete
  10. भाव पूर्ण ... बच्चों की बहुत शुभकामनायें ....

    ReplyDelete
  11. मां ही--यह कर सकती है.
    ईश्वर आपकी मनोकामना पूर्ण करे.

    ReplyDelete
  12. sabhi ko bahut-bahut dhanyavad .....

    ReplyDelete
  13. मां के स्नेह की उर्जा संतान को सुपोषित करती रहती है।
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  14. वह खुद समर्थ होगा , मंगलकामनाएं बच्चे को !

    ReplyDelete
  15. .... प्रगतिपथ पर अग्रसर होने के लिये इस पहले कदम के लिये अनंत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  16. जहाँ माँ का आशीर्वाद होता है ,जगज्जननी का नेह भी वहीं छलकता है !
    बेटे को शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. उम्दा प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर उदगार संतान के प्रति प्रार्थना ईश से .,बेड़ाकर पार ,अपरम्पार .

    ReplyDelete
  19. सभी को धन्यवाद ......

    ReplyDelete