Sunday, 6 April 2014

…तो…....






बादल बरसे ना 
धरती  तरसे ना 
बिजली चमके ना..... तो…… 
                                कोई मतलब नहीं। 
मन बहके ना 
दिल हर्षे ना 
आँखें छलके ना …तो….... 
                              कोई मतलब नहीं। 

उपवन महके ना 
कोयल कुहूके ना 
चिड़ियाँ चहके ना.…तो….... 
                              कोई मतलब नहीं। 
सब्जी में नमक ज्यादा हो 
रिश्तों में मर्यादा ना हो 
शतरंज में प्यादा ना हो.…तो…… 
                                  कोई मतलब नहीं। 

21 comments:

  1. कोई मतलब नहीं .. सही कहा ... कुछ बातों का होने में ही मतलब होता है

    ReplyDelete
  2. सचमुच … कोई मतलब नहीं .... बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. सच में कोई मतलब नहीं...बहुत ख़ूबसूरत रचना...

    ReplyDelete
  4. मतलब के बिना कुछ नहीं..बहुत बढिया ..

    ReplyDelete
  5. बहुत मतलब की बात कह दी आपने...

    ReplyDelete
  6. Vaise har baat me matlab dhoondhne ka bhi koi mstlabb nahi!
    Meri baat ka ye matlab na nikala jaye ki rachna khoobsoorat nahi!!!

    ReplyDelete
  7. sahi bat kaha aapne sir .....har bat ka matlab nikle ye jaruri nahi .....bs ye mere khalalon ki khichdi hai ....mere liye sabse aasan bhojan khichdi banaana hi hin hai ....apna bahumulya samay dene ke liye tahedil se aabhari hoon .......

    ReplyDelete
  8. सभी को धन्यवाद ......

    ReplyDelete
  9. कविता में दम है
    भाव भी गहन हैं
    प्यारी सी कहन है! - कैसे अच्छी नहीं!!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (07-03-2014) को "बेफ़िक्र हो, ज़िन्दगी उसके - नाम कर दी" (चर्चा मंच-1575) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद शास्त्री जी ....

      Delete
  12. रचना बेजोड़
    अभिव्यक्ति की लगी होड

    ReplyDelete
  13. गज़ब की लेखनी हैं आपकी , आदरणीय धन्यवाद !
    नवीन प्रकाशन -: साथी हाँथ बढ़ाना !
    नवीन प्रकाशन -: सर्च इन्जिन कैसे कार्य करता है ? { How the search engine works ? }

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब ... रिश्तों में मर्यादा न हो तो क्या मतलब ...

    ReplyDelete
  15. मोदी जीते न ,

    जनता हर्षे (हरखे )न ,

    भारत पनपे न -

    तो कोई मतलब नहीं।

    बढ़िया भाव बोध की रचना :

    बादल बरसे ना
    धरती तरसे ना
    बिजली चमके ना..... तो……
    कोई मतलब नहीं।
    मन बहके ना
    दिल हर्षे ना
    आँखें छलके ना …तो…....
    कोई मतलब नहीं।

    उपवन महके ना
    कोयल कुहूके ना
    चिड़ियाँ चहके ना.…तो…....
    कोई मतलब नहीं।
    सब्जी में नमक ज्यादा हो
    रिश्तों में मर्यादा ना हो
    शतरंज में प्यादा ना हो.…तो……
    कोई मतलब नहीं।

    ReplyDelete
  16. शुक्रिया आपकी प्रेरक टिप्पणी का ,विश्लेषण परक बढ़िया अर्थपूर्ण कविता पढ़वाया आपने।

    ReplyDelete
  17. कोई मतलब नही.
    मतलब सुन्दर कविता.
    वाह!

    ReplyDelete