Thursday, 20 March 2014

माँ----बनकर देखो -

हर साँस से  सपने 
उर से स्नेह ---
 प्रकृति के कण -कण से 
सुखों की  बरसात हो रही थी 
उपलब्धि बड़ी नहीं--छोटी सी (?) थी ---
एक माँ अपने बच्चे को ढूध पिला रही थी-- 

नकली आवरण 
नकली शानों-शौकत 
नकली खुशियों को फेंको 
दुनियाँ तेरी बदल जायेगी 
माँ----बनकर देखो ----



24 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 22/03/2014 को "दर्द की बस्ती":चर्चा मंच:चर्चा अंक:1559 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजीव जी ...

      Delete
  2. लाजबाब बात .......

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर ..... गहरी बात कही आपने

    ReplyDelete
  4. कोमल भाव ..बहुत प्यारी रचना....

    ReplyDelete
  5. मातृत्व से ओत-प्रोत पावन भाव ....!!सुंदर रचना ....!!

    ReplyDelete
  6. दुनियाँ तेरी बदल जायेगी
    माँ----बनकर देखो ----
    माँ ,,,,,शब्दों में रहकर भी शब्दों से परे होती हैं !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर, २४ कैरेट शुद्ध सोने की बात कही आपने !
    latest post कि आज होली है !

    ReplyDelete
  9. असली सुख मां बनने में ही है ..

    ReplyDelete
  10. आदरणीय , बहुत हि सुंदर कृतियाँ , धन्यवाद
    नवीन प्रकाशन -: बुद्धिवर्धक कहानियाँ - ( ~ अतिथि-यज्ञ ~ ) - { Inspiring stories part - 2 }
    बीता प्रकाशन -: होली गीत - { रंगों का महत्व }

    ReplyDelete
  11. माँ बननाबहुत ही खूबसूरत अनुभव जो मन की अनेक सुन्दर भावनाओं से जुड़ा होता है .-स्नेह,गर्व,ममता ,और अपने निजत्व की व्याप्ति का सुख !

    ReplyDelete
  12. गहरा भाव लिए ... ऐसा आनंद जिसे सिर्फ नारी ही समझ, भोग सकती है ..

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत ही नहीं जहीन माँ कि महिमा कहती पोस्ट सादर नमन

    ReplyDelete
  14. bahut hi gahara bhav ,maa ke mahatav ko pratipadit karati rachana

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर है प्राथमिक आहार का दान

    बहुत सात्विक है स्तन पान करवाना

    ReplyDelete
  16. Ek maa ka marm ek maa hee samjh sakti hai:)

    ReplyDelete