Friday, 21 February 2014

बोलो बसंत

उजड़े को सँवारते हो 
नाउम्मीदी से भरे दिलों में 
उम्मीद की  किरण जगाते हो.… इसीलिए,,,
बसंत---   तुम..... ऋतुराज कहलाते हो..... 

यहाँ-वहाँ  सारे जहाँ में 
छोटे-बड़े का भेद किये बिना 
गुलशन को महकाते हो..... इसीलिए ,,,,
बसंत ---तुम.… ऋतुराज कहलाते हो.… 

माँ शारदे का प्रसाद 
होली का अल्हड आह्लाद 
झोली में लेकर आते हो..... इसीलिये,,,,
बसंत ---तुम.…ऋतुराज कहलाते हो.…

गाँव शहर हर गली की  बिटिया 
निर्भय जीवन जी पाये 
कोई भी दुष्कर्मी उसके 
अस्मत / भावनाओं से खेल न पाये 
फिज़ा में ये रंग कब-तक बिखराओगे 
उसी बसंत का इन्तजार है 
बोलो   बसंत ! कब आओगे ?

22 comments:

  1. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक24/02/2014 यानी आने वाले इस सौमवार को को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।
    [अगर आप ने अभी तक मंच की सदस्यता नहीं ली है, मेरा आप से निवेदन है कि आप मंच का सदस्य बनकर मंच को अपना स्नेह दें।]

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद कुलदीप जी ......

      Delete
  2. बहुत सुन्दर रचना .. कहो वसंत कब आओगे .

    ReplyDelete
    Replies
    1. गाँव शहर हर गली की बिटिया
      निर्भय जीवन जी पाये
      कोई भी दुष्कर्मी उसके
      अस्मत / भावनाओं से खेल न पाये
      फिज़ा में ये रंग कब-तक बिखराओगे
      उसी बसंत का इन्तजार है
      बोलो बसंत ! कब आओगे ?

      वाह ! बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति...! निशा जी ....

      RECENT POST - आँसुओं की कीमत.

      Delete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस, गूगल और 'निराला' - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत प्यारी रचना....
    आपने पुकारा...अब वसंत आया ही समझिये..
    अनु

    ReplyDelete
  5. गाँव शहर हर गली की बिटिया
    निर्भय जीवन जी पाये
    कोई भी दुष्कर्मी उसके
    अस्मत / भावनाओं से खेल न पाये
    फिज़ा में ये रंग कब-तक बिखराओगे
    उसी बसंत का इन्तजार है
    बोलो बसंत ! कब आओगे ?
    aane ko hi hai sunder bhav
    Rachana

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (22-02-2014) को "दुआओं का असर होता है" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1531 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद शास्त्री जी

      Delete
  7. बड़ा कठिन बुलौवा दे दिया आपने वसंत को...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन अभिव्यक्ति .....सुंदर वासंतिक भाव

    ReplyDelete
  9. वह बसंत भी आएगा एक दिन , मंगल कामनाएं !!

    ReplyDelete
  10. उजड़े को सँवारते हो
    नाउम्मीदी से भरे दिलों में
    उम्मीद की किरण जगाते हो.… इसीलिए,,,
    बसंत--- तुम..... ऋतुराज कहलाते हो.....कहाते हो

    अति सुन्दर अर्थ और प्रवाह ,आभार आपकी टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  11. मौसमों का राजा बसंत ... ऐसे ही नहीं बना ... बाखूब ...

    ReplyDelete
  12. प्रभावित करती रचना .

    ReplyDelete
  13. नाउम्मीदी से भरे दिलों में
    उम्मीद की किरण जगाते हो.

    बसंत का आवाहन करती अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  14. फिज़ा में ये रंग कब-तक बिखराओगे
    उसी बसंत का इन्तजार है
    बोलो बसंत ! कब आओगे ?

    वाह ! बहुत ही सुंदर रचना लिख डाली ... निशा जी अपने बहुत खूब

    ReplyDelete
  15. बसंत का खूबसूरत चित्रण

    ReplyDelete