Thursday, 10 October 2013

पत्ते झड़ते शाखों से

सुख-दुःख की आँख-मिचौनी 
और उनका ये दीवानापन 
साथ लिए अपने आता है 
अल्हड सा मस्तानापन,…… 

पथ पर जब थक जागे 
लिए अपना नश्वर यह धन
 पथिक तभी समझ पाओगे 
साँसों का ये महँगापन,…… 

पत्ते झड़ते शाखों से 
फूलों बिन सूना उपवन 
कब-कौन -कहाँ चल देता है 
कैसा ये बेगानापन,…


28 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार - 11/10/2013 को माँ तुम हमेशा याद आती हो .... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः33 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दर्शन जी ...

      Delete
  2. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  3. गहन अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  4. साँसों का महँगापन....

    बहुत सुन्दर भाव..

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  5. सुंदर ढंग से चित्रित भाव.....

    ReplyDelete
  6. वाह वाह
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (11-10-2013) चिट़ठी मेरे नाम की (चर्चा -1395) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद शास्त्री जी .....

    ReplyDelete
  9. पत्ते झड़ते शाखों से
    फूलों बिन सूना उपवन
    कब-कौन -कहाँ चल देता है
    कैसा ये बेगानापन,…
    क्या बात है जीवन की नश्वरता की ओर संकेत .

    ReplyDelete
  10. ज़िंदगी का फलसफा है .... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : मंदारं शिखरं दृष्ट्वा
    नई पोस्ट : प्रिय प्रवासी बिसरा गया
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  12. पथ पर जब थक जायोगे
    लिए अपना नश्वर यह धन
    पथिक तभी समझ पाओगे
    साँसों का ये महँगापन,……

    ReplyDelete
  13. जिंदगी एक् छुपी रहस्य ! बहुत सुन्दर |
    लेटेस्ट पोस्ट नव दुर्गा

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर भावो की अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब ,भावों की बहुत सुंदर प्रस्तुति ...!
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति |

    मेरी नई रचना :- मेरी चाहत

    ReplyDelete
  17. कल 13/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यश जी .....

      Delete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. ये बेगानापन तो प्राकृति दे देती है सहज ही .... मन के भाव से जोड़ कर सुन्दर रचना का सृजन ...
    दशहरा की मंगल कामनाएं ...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    ReplyDelete

  21. पत्ते झड़ते शाखों से
    फूलों बिन सूना उपवन
    कब-कौन -कहाँ चल देता है
    कैसा ये बेगानापन,…

    कभी समझ न पाओगे ,
    प्रिय साँसों का अपना पन

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर है भाव भी अर्थ भी समस्वरता है दोनों में .

    सुख-दुःख की आँख-मिचौनी
    और उनका ये दीवानापन
    साथ लिए अपने आता है
    अल्हड सा मस्तानापन,……

    ReplyDelete
  23. शुक्रिया आपकी ताज़ा टिपण्णी का इस सुन्दर रचना को सांझा करने का .

    सुख-दुःख की आँख-मिचौनी
    और उनका ये दीवानापन
    साथ लिए अपने आता है
    अल्हड सा मस्तानापन,…

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर। चीजों की देह की क्षणभंगुरता बताती हुई बढिया कविता।

    ReplyDelete