Wednesday, 15 May 2013

एक दूसरे की परछाईं

ज्यों हीं शाखों   पर बंद कलियों ने 
अपनी आँखें खोली ...... 
शहद भरे मीठे शब्दों में 
कोयल कुहू -कुहू बोली ......

झूम उठी है  निशा सुहानी 
आया नया सबेरा 
चलो सखी अब आम्र कुञ्ज में 
डाले अपना डेरा .....

दो पथिक मिले 
एक राह चले 
दो सपनों ने ली थी अंगडाई ...
आज उन्हीं को साथ लिए                         

ये शाम मस्तानी आई .......

शाखें सजती जैसे गुलमोहर की 
सुर्ख फूलों की लाली से 
सज़ा रहे उन पथिकों का जीवन भी 
 एक दूसरे  की परछाईं से ......

खुशियाँ बाँटों 
खुशियाँ पाओ 
उलझन को 
मिल-जुल  सुलझाओ ......

बीत गए कुछ समय पुराने 
आनेवाले भी बीत जायेंगे 
इन राहों पर चलते-चलते 
 मंज़िल पर  छा जायेंगे .....


29 comments:

  1. खुशियाँ बाँटों
    खुशियाँ पाओ
    उलझन को
    मिल-जुल सुलझाओ .....बहुत सुन्दर भाव..

    ReplyDelete
  2. बीत गए कुछ समय पुराने
    आनेवाले भी बीत जायेंगे
    इन राहों पर चलते-चलते
    मंज़िल पर छा जायेंगे .....

    खुशियाँ बाँटते बांटते समय भी बीत जाता है और हम नई सुबह में उलझने सुलझा जाते हैं

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर, खुशियाँ बाँटों
    खुशियाँ पाओ
    उलझन को
    मिल-जुल सुलझाओ ......

    बीत गए कुछ समय पुराने
    आनेवाले भी बीत जायेंगे
    इन राहों पर चलते-चलते
    मंज़िल पर छा जायेंगे .....

    ReplyDelete
  4. आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. खुशियाँ बाँटों
    खुशियाँ पाओ
    उलझन को
    मिल-जुल सुलझाओ ......

    खुशहाल जीवन का सुंदर मंत्र ......

    ReplyDelete
  6. खुशियाँ बाँटों
    खुशियाँ पाओ
    उलझन को
    मिल-जुल सुलझाओ ...

    ....बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  7. गुलमोहर मुझे बहुत प्रिय है और उसका सन्देश आपने सब तक खूबसूरती से पहुँचाया है

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर भाव,,,,,
    लगता है सचमुच झूम उठी है निशा :-)

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  9. आशा, खुशी और उलास के र्संग में रंगी ... सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर आशामयी रचना.

    ReplyDelete
  12. शाखें सजती जैसे गुलमोहर की
    सुर्ख फूलों की लाली से
    सज़ा रहे उन पथिकों का जीवन भी
    एक दूसरे की परछाईं से .....
    आमीन
    हमेशा कुशल-मंगल रहे ....

    ReplyDelete
  13. कोमल भाव से सजी रचना

    ReplyDelete
  14. अनुपम भाव संयोजन ... बेहतरीन

    ReplyDelete

  15. दो पथिक मिले
    एक राह चले
    दो सपनों ने ली थी अंगडाई ...
    आज उन्हीं को साथ लिए
    ये शाम मस्तानी आई .......
    बहुत खूब .

    ReplyDelete
  16. khoobsurat bhavon se saji rachna ..

    ReplyDelete
  17. मई के महीने में यह रचना, जैसे गुलमोहर की छाँव ,शीतल,सुन्दर और सुखद...बहुत बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
  18. Well said. Good one . Plz visit my blog.

    ReplyDelete
  19. जीवन और जगत के प्रति सकारात्मक शुभ भाव की बढ़िया रचना .

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्‍दर और सार्थक रचना आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की जादूई जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें और टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें MY BIG GUIDE

    नई पोस्‍ट अपनी इन्‍टरनेट स्‍पीड को कीजिये 100 गुना गूगल फाइबर से

    ReplyDelete
  21. h सकारात्मक सोच और सहयोग की रचना जीवन में सौहाद्र की बात की है रचना में .बीत गए जैसे ये दिन रैना बाकी भी कट जाए ,दुआ कीजे ,बहुत दिया देने वाले ने तुझको आँचल ही न समाये तो क्या कीजे ....

    ReplyDelete
  22. इस सुन्दर और अविस्मर्णीय दिन के लिए अशेष बधाई...

    ReplyDelete
  23. khoobshurst rachna avismrniy yani ki chirsmarniy din hetu dil de badhayee

    ReplyDelete
  24. शुक्रिया आपके टिपण्णी का .ॐ शान्ति .

    ReplyDelete