Monday, 30 July 2012

केदारनाथ चलें

                          

    

ब्लोगर साथियों आज  केदारनाथ यात्रा के बारे में बता देती हूँ बहुत दिन हो गए ...
कभी कंप्यूटर साथ नही दे रहा था तो कभी समय ...
29.5. को हम उत्तरकाशी से सुबह 7 बजे केदारनाथ के लिए रवाना हुए ....
जल्दी निकलने के मूड में थे हम पर पेट्रोल ख़त्म हो जाने की वजह से देर हो गई थी ..
जब पेट्रोल पम्प पर पेट्रोल मिला तब हमारी यात्रा शुरू हुई ...
पेट्रोल का ध्यान रखना जरुरी है ...हमें कई बार परेशानी हुई ...
खैर जैसे तैसे शेरसी पहुंचे शाम के 4.45 में ....
पता चला की अब केदारनाथ नही जा सकते  क्योंकि रिपोर्टिंग टाइम निकल गया है
जबकि हमें कहा गया था की रात के 8 बजे तक फ्लाईट जाती है ..
हमको  कहा  गया आपका टिकट बेकार हो गया ...लास्ट फ्लाईट शाम के 5 बजे तक जाती है ...
हम सभी तनाव में आ गए ...जैसे तैसे करके एजेंट से बात की ...
तब हमें 30 .7 को आने के लिए कहा गया ...30 को शाम 3 बजे हमारी बारी आई ...
हमने हरिद्वार से ही हेलीकाप्टर के लिए बुकिंग कराई  थी।..रात हमें शेरसी में रुकना पड़ा ...
        










                             उत्तरकाशी से केदारनाथ के रस्ते में चाय के लए रुके थे हम .....






   अपनी बारी का इन्तजार   ...




    केदारनाथ पहुच गए हम .......आख़िरकार  मेरा सपना पूरा हुआ ...जिसके बारे में मै  सोचती थी
की मैं कभी केदारनाथ नही जा सकती क्योंकि मुझे ऊंचाई से बहुत डर  लगता है ...पर अधिकारी जी
और उनकी पत्नी शशि के साथ हमारी ये यात्रा पूरी हो गई ....बहुत बहुत धन्यवाद उनको ....







बहुत सुन्दर दृश्य थे ...दिल खुश हो गया ....


कुछ -कुछ जगह बर्फ भी थे बहुत मजा आया   ....


सभी फिसल रहे थे  ..गिर रहे थे ...हँसते -हँसते बुरा हाल था  था मेरा
हाँ मै नही फिसली ...







मंदिर के करीब हैं हम ...








हम 3 बजे शाम में केदारनाथ पहुँच गए थे ..6 मिनट लगा शेरसी से आने में ..हेलिकोप्टर द्वारा
ज्यादा चलना नही पड़ा ....बर्फ पर हमने खूब मजे किये ...3.30..बजे शाम को दर्शन के लिए हम लाइन में लगे ..
5.30 में दर्शन हुए ...रात वही रुकना पड़ा ....










दुसरे दिन सुबह लौट गए ...रात और सुबह ठण्ड थी वैसे मौसम बड़ा अच्छा था






                                           बाहर बहुत ठण्ड थी अत: अन्दर आ गए हम ...


                                                  चाय की जरुरत थी ठण्ड की वजह से ...







कुल मिला कर बहुत मजा आया .....देर से पहुचने की वजह से कुछ तनाव अवश्य हो गया था ...
इसलिए जरुरी है की टिकट बुक कराते समय ये बातें साफ हो जाय क्योंकि जाम की वजह से भी कई बार देर हो जाती है .....

फिर मिलते है ........धन्यवाद    ....

31 comments:

  1. इस सचित्र प्रस्‍तुति के लिए आभार ...

    ReplyDelete
  2. आपके वृत्तांत से तो लगा मानो यात्रा बड़ी सहज और सरल है....
    जाया जा सकता है...

    सुन्दर चित्र....आप पक्का नहीं फिसलीं थी न :-)

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. sach men nahi fisli ...ab fisalne ki umra kahan???? pta hai anu jee meri saheliyan kahti hain bhari log nahi fisalte ...pure group men mera vajan hi jyaada tha bada shock laga tha vahan se aakr 4 kg vajan kam kiya ...

      Delete
  3. आपका यात्रा संस्मरण हमें भी केदारनाथ जाने की प्रेरणा दे रहा है।

    ReplyDelete
  4. चित्रमय बेहतरीन केदारनाथ यात्रा प्रस्तुति,,,,,,

    ReplyDelete
  5. चित्रमय बेहतरीन केदारनाथ यात्रा प्रस्तुति,,,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  6. रोचक वृत्तांत ...बहुत सुन्दर चित्र...

    ReplyDelete
  7. सुंदर चित्र एवं वृतांत

    ReplyDelete
  8. वाह: सुंदर चित्रों के साथ सुन्दर यात्रा वृतांत....आभार

    ReplyDelete
  9. घर बैठे केदार नाथ के दर्शन हो गए ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. सुंदर चित्रों के साथ सुन्दर यात्रा वृतांत..... sach men nahi fisli ...ab fisalne ki umra kahan?
    Hahaha...Lajwab..waqt ke sath-sath bahut kuch badal jata hai Nisha ji.....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर चित्रमय प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  12. आपकी चित्रमय यात्रा के साथ हम भी दर्शन कर रहे हैं ...
    आशा है आपकी यात्रा सुखद रही ...

    ReplyDelete
  13. मनोहर दिलकश नज़ारे केदार नाथ धाम के साझा करने के लिए शुक्रिया ."दोस्ती का दिन " मुबारक .कृपया यहाँ भी पधारें -


    ram ram bhai
    रविवार, 5 अगस्त 2012
    आपके श्वसन सम्बन्धी स्वास्थ्य का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक (चिकित्सा व्यवस्था )में

    ReplyDelete
  14. वाह! निशा जी आपने तो केदार नाथ जी की बहुत सुन्दर यात्रा करवा दी है.
    वहाँ आपने आदि गुरु शंकराचार्य जी के मंदिर के भी दर्शन किये होंगें.

    केदारनाथ धाम की छटा ही निराली है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार,निशा जी.

    ReplyDelete
  15. .

    आपने घर बैठे केदारनाथ-दर्शन करवा दिए …
    तीर्थ-यात्रा के पुण्य के साथ इसका भी पुण्य लाभ मिलेगा …
    :)

    सुन्दर यात्रा वृतांत के लिए आभार !

    ReplyDelete
  16. aapke britant ke sath hamne bhi kedarnath ke darshan kar liye Nish ji..thanks

    ReplyDelete
  17. aapke blog ki 100wa followes mai... :))

    ReplyDelete
  18. ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन
    वो तो गली गली हरि गुण गाने लगी...

    श्रीकृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ,निशा जी.

    ReplyDelete
  19. uttrakhand ki paawan bhumi pr aapka..baarmbaar...shubhswagat..

    ReplyDelete
  20. namskaar aapne to uttarkashi ki yatraa karvaa di ..dhanyvaad aapkaa ..aapko padhkar achcha laga

    ReplyDelete
  21. aapne uttarkashi ki yatraa karva di dhanyvaad ..aapki bhashashaili khoobsurat hai ...aur ue jo tippani men fond badal jaten hen wo kaise ?hote hen sundar hen

    ReplyDelete
  22. अच्छा यात्रा सचित्र ब्योरा दिया है आपने .द्रुत टिपण्णी के लिए शुक्रिया आपका

    ReplyDelete