Friday, 23 December 2011

अपनापन

अपना कभी  अपनों  से
रूठ नही सकता
नींद  औ सपनों का रिश्ता
टूट नही सकता ........


एक दूसरे का साथ
विश्वास से चलता है 
बेगानों की दुनिया में  भला  कहाँ ?
अपनापन  मिलता है ..........



दुःख  मुझको  देकर  सोचो  भला .........
तुमने क्या पाया ?
उतना ही तुम भी दुखी हुए
जितना  मुझको तडपाया........



लाख कोशिश  करे पतझड़
बहारें  फिर भी आय़ेगी
उदासी भरे पल हो या ........
खुशियों भरी  शामें
जब -जब साँझ  ढलेगी
तुम्हें मेरी याद सताएगी ...........

लाख गम हो मुकद्दर  में निशा के ......
वो फिर भी खिलखिलाएगी .....
वो फिर भी खिलखिलाएगी ........

31 comments:

  1. क्या संयोग है...आज ही आपके ब्लॉग पर आई सुबह, तो लगा कि आप कुछ लिख क्यूँ नहीं रहीं...
    पूरा एक माह हुआ..
    खैर..
    बहुत प्यारी रचना...

    ReplyDelete
  2. शीर्षक से ही भावनाओं की गहराई का एह्सास होता है।

    ReplyDelete
  3. लाख गमो के बाद मुस्कुराना बड़ी बात है।

    ReplyDelete
  4. दुःख मुझको देकर सोचो भला .........
    तुमने क्या पाया ?
    उतना ही तुम भी दुखी हुए
    जितना मुझको तडपाया....to chalo muskura do

    ReplyDelete
  5. अहसासों की एक सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  6. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर! उम्दा प्रस्तुती!
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. लाख कोशिश करे पतझड़
    बहारें फिर भी आय़ेगी
    उदासी भरे पल हो या
    खुशियों भरी शामें
    जब -जब साँझ ढलेगी
    तुम्हें मेरी याद सताएगी


    सुंदर रचना !

    आभार !!

    मेरी नई रचना ( अनमने से ख़याल )

    ReplyDelete
  9. Nishaji, ye padh ke bas ek tippani dene ki ikchha hui,"sadaa khilkhilate rahiye".

    ReplyDelete
  10. सरल शब्दों में गूढ़ बातें लिखी हैं, जो सहज ही दिल को छू गईं.. अंतिम पंक्ति में जिजीविषा उभर आई है... बधाई आपको..

    ReplyDelete
  11. मन में उठते भावों की सुंदर रचना,..
    पोस्ट अच्छी लगी,....

    "काव्यान्जलि"--नई पोस्ट--"बेटी और पेड़"-- में click करें

    ReplyDelete
  12. आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  13. कहीं अपनापन है तभी जि़ंदगी सार्थक है।
    बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर एवं लयबद्ध रचना !
    आभार !

    ReplyDelete
  15. सच है उदासी लंबे समय तक नहीं रहती .... लाजवाब रचना है ...

    ReplyDelete
  16. आपका अपनापन बहुत अच्छा लगा.
    मेरे ब्लॉग पर आप आयीं.बहुत ही अच्छा लगा.

    आभार.. बहुत बहुत आभार आपका,निशा जी.

    ReplyDelete
  17. Wah....jab jab sanjh dhalegi, tumhe hamari yaad sataayegi...

    bahut sundar....

    ReplyDelete
  18. लाख गम हो मुकद्दर में निशा के ......
    वो फिर भी खिलखिलाएगी .....
    वो फिर भी खिलखिलाएगी ....

    यही जज़्बा रहना चाहिए .. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. भई बहुत सुन्दर प्रस्तुति वाह!

    ReplyDelete
  20. यही है निशा की नियति।

    ReplyDelete
  21. नींद औ सपनों का रिश्ता
    टूट नही सकता ........

    वाह! बहुत बढ़िया राचना....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  22. लाख गम हो मुकद्दर में निशा के ......
    वो फिर भी खिलखिलाएगी .....

    positve thoughts...

    ReplyDelete
  23. दुःख मुझको देकर सोचो भला .........
    तुमने क्या पाया ?
    उतना ही तुम भी दुखी हुए
    जितना मुझको तडपाया......
    ..sach koi apna hai to wah dukh kisko deta hai, apne aapko hi.. badiya bhav pravarnta...

    ReplyDelete
  24. सार्थक सोच लिये बहुत सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  25. दुःख मुझको देकर सोचो भला .........
    तुमने क्या पाया ?
    उतना ही तुम भी दुखी हुए
    जितना मुझको तडपाया

    वाह ...बहुत बढ़िया बात कही है ... सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete