Monday, 19 August 2013

लहरों ने

लहरों   ने मिलाया 

लहरों ने जुदा किया 
न तेरी कोई खता थी 
न मैंने कुछ किया। 



38 comments:

  1. सब समय का खेल है!

    सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर और सार्थक प्रस्तुती, आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर ..

    ReplyDelete
  4. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार (20 -08-2013) के चर्चा मंच -1343 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. यह कविता के साथ एक सूक्ति है । बधाई ।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन


    सादर

    ReplyDelete
  7. सुंदर सृजन लाजबाब प्रस्तुति,,,

    ReplyDelete
  8. लहरों ने मिलाया

    लहरों ने जुदा किया
    न तेरी कोई खता थी
    न मैंने कुछ किया।

    khubsurat aur laajawab dil ke karib behatarin wow

    ReplyDelete
  9. खुबसूरत रचना !!

    ReplyDelete
  10. अनुपम भाव संयोजन ...

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब ... भावमय ... लहरें जीवन हैं कभी मिलाती हैं कभी जुदा करती हैं ...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब बेहतरीन...
    :-)

    ReplyDelete
  13. लहरों ने मिलाया
    लहरों ने जुदा किया
    ....सुंदर सृजन

    ReplyDelete

  14. संवेदनशील रचना बहुत ही भावपूर्ण ओर सुन्दर . बधाई ओर शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  15. गहन दर्शन सिमटा है इन पंक्‍तियों में । बहुत सुंदर ।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर क्षणिका ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  17. सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  18. सशक्त विचार सम्प्रेषण करती हुई भाव कणिका।

    ReplyDelete
  19. लाजवाब प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  20. लाजबाब..संक्षेप में इससे गहरी बात और क्या हो सकती है।।।

    ReplyDelete
  21. शुक्रिया आपके नेहा पूर्ण टिप्पणियों का। ॐ शान्ति।

    ReplyDelete
  22. कभी कभी हमारे हाथ में कुछ नहीं होता
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  23. वाह बहुत खुबसूरत

    ReplyDelete


  24. लहरों ने मिलाया
    लहरों ने जुदा किया

    न तेरी कोई ख़ता थी
    न मैंने कुछ किया...

    वाऽहऽऽ…!

    सचमुच हमारे हाथ में कुछ नहीं...
    आदरणीया डॉ.निशा जी
    सुंदर सत्य !

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyavad rajendra jee ..bahut dinon bad aapke darshan huye ...

      Delete
  25. आपकी इस उत्कृष्ट रचना का प्रसारण कल रविवार, दिनांक 25/08/2013 को ब्लॉग प्रसारण http://blogprasaran.blogspot.in/ पर भी .. कृपया पधारें !

    ReplyDelete
  26. न तेरी खता थी न मैंने कुछ किया .. बहुत खूब

    ReplyDelete
  27. सब कुछ वक़्त के हाथ है...

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब लिखा है। शुक्रिया आपकी टिपपणी का।

    ReplyDelete
  29. you described life and relationship in 3 simple lines...that is called true poetry..:)

    ReplyDelete